लॉस एंजेलेस(अमेरिका) में प्रणय का अंकुर-२

(America Me Prnay Ka Ankur-2)

प्रेषक : विशाल थन्ना

हम फ़िर डिज्नी लैंड के मुख्य पार्क में आ गए, शाम ढल चुकी थी। दोनों थक गए थे। पर मालती को इलेक्ट्रिक परेड देखना था। मैंने भी सोचा, चलो, इतनी महँगी टिकट ली है तो वह भी देखा जाए, उसके लिए समय था। मैं रात के लिए योजना बना रहा था। काश ! किसी तरह मालती तैयार हो जाए !

“क्या सोच रहे हो?” मालती ने कहा,” मुझे डिज्नी की यादगार चाहिए ! मुझे एक पेनी और दो क्वाटर दो।”

वह एक मशीन के पास खड़ी थी जिसमें एक पेनी और दो क्वार्टर डालने पर वह पेनी को चपटा करके डिज्नी के किसी चरित्र का चेहरा छाप देती थी।

मैंने हाथ ऊपर कर लिए,”पैन्ट से निकाल लो !”

“दो ना !” वह बोली।

“अरे बाबा, निकाल लो ना !” मैंने कहा।

उसने जेब में हाथ डालकर टटोला। उसकी उंगलियाँ लिंग से टकराई, लिंग ने अंगडाई ली और वह लाल भभूका हुई।

मैंने सोच लिया, आज रात को इसे समागम के लिए तैयार किया जाए तो मज़ा आ जाए।

इलेक्ट्रिक परेड में जबरदस्त भीड़ थी और हम थोड़ा विलंब से पहुंचे। मालती अपने पंजों पर खड़ी हुई, पर उसे कुछ दिख नहीं रहा था।

“धत,” वह निराशा से बोली,”विशाल, सब तुम्हारी गलती है !”

मैंने उसकी जाँघों को पकड़ा और उसे हवा में उठा लिया।

“ओह विशाल, क्या कर रहे हो?”

“अपनी, प्यारी प्यारी प्रेमिका की छोटी सी मुराद पूरी कर रहा हूँ !” मैंने उसके गाल चूमते हुए कहा।

जब तक परेड चलती रही, मैं उसे बाँहों में उठाये रहा। वह डिजीटल कैमरे से क्लिक क्लिक करते रही, हर क्लिक पर मैं उसके गाल एक बार चूम लेता था। मैं महसूस कर रहा था कि उसका बदन भी धीरे धीरे तप रहा है।

मैं स्वप्न लोक में था पर तभी मुझे एक झटका लगा।

परेड ख़त्म होने के बाद हम वापिस आ रहे थे। मैंने उसके कान में धीरे से प्रणय का इज़हार किया,”मालती ! क्या आज रात में हम यौन-आनन्द लें?”

वह रुक गई, मेरी ओर देख कर बोली,” विशाल, बुरा मत मानना ! तुम बहुत अच्छे इंसान हो ! मैं बहुत खुश हूँ कि मुझे तुम्हारे जैसा दोस्त मिला ! पर मैं अक्षत-यौवना हूँ ! मैं अपना कौमार्य अपने पति को भेंट देना चाहती हूँ।”

मुझे एक झटका लगा, साथ ही मुझे लगा कि किसी ने मुझे एक झापड़ मारा हो ! रास्ते भर हमने बात नहीं की। बस में उसे नींद आ गई। वह मेरे कंधे पर सर रखकर सो गई। मैं उसके मासूम चेहरे को देखता रहा। वह कितनी मासूम है ! अब मुझे आत्म-ग्लानि होने लगी ! मैंने उसके बालों में धीरे से हाथ फेरा,”माला ! उठो ! नोरवाक आ गया है, यहाँ से हमें ग्रीन लाइन की ट्रेन पकड़नी है।”

हम ग्रीन लाइन की ट्रेन से एविएशन स्टेशन आये, वहां से टैक्सी से उसके होटल चले गए।

मुझे अपना टीशर्ट और अंडरवियर याद नहीं रहा। मालती ने ही कहा,”चलो, मेरे कमरे में चलो, तुम्हारा टीशर्ट देती हूँ।”

“और वो भी !” मैंने कहा।

“हाँ, वो भी !” वह मुस्कुराई।

कमरे में आकर वह बाथरूम में कपड़े बदल कर आई और बोली,”विशाल ! आज यहीं रुक जाओ।”

“मालती, नहीं ! मुझे जाने दो !”

“नहीं, विशाल ! प्लीज ! रात हो गई है, ये एक सुइट है, सोने के लिए काफी बिस्तर हैं।”

मेरे बैग में टीशर्ट के अलावा एक बरमूडा भी था। रात वाकई काफी हो गई थी, पर मेरा मन खिन्न हो गया था।

फ़िर मैंने कहा, अच्छा, मैं सुइट के फ्रंट-रूम में सो जाता हूँ।”

बत्तियां बंद हुई पर मेरी आंखों से नींद ना जाने कहाँ गायब हो गई थी। अचानक कमरे में सरसराहट हुई। मैंने नाईट लैंप जलाया, देखा- सामने मालती खड़ी थी।

“मालती !” मैंने मुंह फेर लिया, वह पारदर्शी नाईट ड्रेस में सामने खड़ी थी।

“विशाल ! नाराज हो मुझसे?”

“नहीं !” मैंने कहा।

“मेरी ओर देखो प्लीज़ ! एक बार !”

मैंने उसकी ओर देखा, उसकी आंखों में आंसू उमड़ आए थे।

“मेरी मज़बूरी समझो विशाल ! मैं पुराने ख्यालों की लड़की हूँ। मेरा कौमार्य मेरे पति की अमानत है। तुम बहुत अच्छे इंसान हो। अगर तुम मेरे पति बन जाओ तो मुझसे खुशकिस्मत कोई नहीं होगा।”

“हो सकता है !” मैंने कहा।

“हाँ, पर वो शादी के बाद होगा ना ! मैं तुम्हें निराश नहीं करना चाहती, पर मेरी मज़बूरी समझो विशाल !”

और उसकी आंखों से आंसू की धार बह निकली। मैंने तड़पकर उसे बाँहों में भर लिया। हम एक दूसरे की बाँहों में खोये रहे। फ़िर मैंने पूछा,”मालती, हो सकता है, मैं तुम्हारा पति बन पाऊं, पर अभी तुम मुझे अपना क्या मानती हो?”

“एक अच्छा दोस्त।” वह बोली।

“बस ! मैंने कहा,” ओह नो !”

“अच्छा, मेरे खास, मेरे प्रियतम !”

“बस, यही तो मैं सुनना चाहता था। देखो मालती, प्रेमी और प्रेमिका बिना कौमार्य भंग किए यौवन मधु पी सकते हैं.यह यौन क्रीडा की चरम सीमा तो नहीं, पर उसके आस पास है समझो. . .बोलो पिलाओगी?”

“हाँ, वादा करो कि कुमारित्व …”

“हरगिज नहीं, पर पिलाओगी, न.”

“क्या ? ” वह शरमा गई,”यौवन मधु ?”

“मधु बाद में, पहले दूध !” मैंने कहा।

हम एक दूसरे की बाँहों में खो गए। मैंने उसके दोनों गालों पर कई चुम्बन लिए, फ़िर मेरे ओंठ सरककर उसकी सुराहीदार गर्दन पर घूमने लगे। फ़िर मैंने गर्दन के आधार पर चुम्बन लिया। वह शरमाकर बाँहों से निकल भागी, मैं उसके पीछे भागा और उसे बाँहों में उठा कर उसके बिस्तर पर ले जाकर पटक दिया।

वह कसमसाने लगी, मैंने अपने ओंठ उसके ओंठों पर चिपका दिये और रस पीने लगा। धीरे धीरे मैंने उसके ओंठों की पंखुडियाँ फैलाई और अपनी जीभ उसके मुंह के अन्दर डाली। मेरी जिह्वा ने उसकी जिह्वा को ललकारा, उसकी जिह्वा शर्म से बाहर आई और मेरी जिह्वा से भिड़ गई। उसकी पलकें बंद हो गई थी।

मैंने उसकी स्लीवलेस गाउन के कंधे की तनी खोली और उसे धीरे धीरे नीचे सरकाया, वह शरमा कर फ़िर भागना चाहती थी पर जैसे ही उठी, उसकी गाउन कमर तक खुल गई और गुन्दाज तने हुए कबूतर चोंच उठाये बाहर आ गए।

मैंने भी तुंरत अपनी टीशर्ट हवा में उछाल दी, मेरी छाती देखकर मालती ने उँगलियाँ मुंह में डाली।

अब मुझे लगा कि मेरी प्रेयसी अपना इरादा ना बदल दे। मैंने फ़िर उसकी ग्रीवा के आधार पर कई चुम्बन जड़ दिए।

“सी, आहऽऽऽ सी..” वह सिस्कारियाँ भरने लगी, मैंने ओंठ नीचे सरकाए। फ़िर उसके उरोजों पर मुलामियत से हाथ फेरा। उरोजों के आधार पर उँगलियाँ फिराते हुए धीरे धीरे उपर ले गया, पर निप्पल जान बूझकर छोड़ दिए। मेरी उँगलियों ने मेरे ओंठों को रास्ता दिखाया। मैंने उसके कान में कहा,”मेरी रानी, दूध पीने की इजाजत है?”

“स्स्सिस, उन्ह हाँ”

मुझे कोई जल्दी नहीं थी। मैंने इस बार ओंठों से उसके स्तनाधार पर कई चुम्बन लिए।पहले बाएं स्तन पर, फ़िर दाएं स्तन पर। धीरे धीरे मेरे ओंठों का दायरा दाहिने स्तन पर कम होता गया और वह निप्पल के पास पहुंचे। मैंने अभी निप्पल पर एक गरम गरम साँस छोड़ी ही थी कि मालती में मेरा सर थाम लिया और उसे कस कर निप्पल पर जमा दिया।

उफ़, क्या स्वादिष्ट था उसके निप्पल का स्वाद। मैं निप्पल पर पिल पड़ा और जोरों से चूसने लगा, दूसरे हाथ से मैंने शरारत से दूसरे स्तनाग्र को चुटकी से मसल दिया…

“उईई, मां !”

मेरे हाथ उसके पेट और नाभि में घूम रहे थे।

‘उह उई, उई मां, धीरे, और जोर से, आह धीरे।”

मैंने निप्पल बदला और बाएं निप्पल पर आक्रमण कर दिया। अचानक उसने मेरा सर जोरों से दबाया और उसका शरीर जोर से कांपा, फ़िर वह निढाल हो गई।

“मालती !” मैंने उसके कानों में सीटी बजाई,” मेरी रानी, आगे बढ़ें?”

उसने गहरी साँस लेकर कहा,” उह, हाँऽऽऽ “

मेरी उंगलियाँ नाभि पर घूम रही थी। फ़िर मैंने नाभि का एक चुम्बन लिया और नाभि में जिह्वा घुसा दी। काफी गहरी थी उसकी नाभि। उत्तेजना में उसका शरीर लगा कि लहरों में नाव की तरह उपर नीचे हो रहा है। मैंने उसके नितम्बों पर एक थपकी दी, मालती इशारा समझ गई और उसने नितम्ब उठाये, मैंने गाउन उसके शरीर से अलग करके नीचे फेंक दिया और पेंटी में उंगलियाँ फंसी ही थी कि मालती शर्म से दोहरी हो गई।

“नहीं, यह नहीं !”

“क्या हुआ मेरी रानी?”

मालती पेट के बल लेटी थी,”नहीं विशाल, पेंटी नही !”

मैंने उसके नितम्ब पर हल्का दंत-प्रहार किया।

“सी ऽऽ काटो नहीं ! ” मैंने पेंटी के कटाव पर नितम्ब में गुदगुदा स्पर्श करना शुर किया और हलके हाथ नीचे ले गया। मालती अभी भी औंधी लेटी थी, फ़िर मैंने उसके नितम्बों के बीच उंगलियाँ फिराई और पेंटी के अन्दर से हाथ ले जाकर उसके गुदा-छिद्र को हल्के से कुरेदा।

“उई मां, मालती हवा में उछल पड़ी। इतना ही मेरे लिए काफी था, मैंने पेंटी नीचे सरका दी। मालती ने हार मानकर करवट बदली और टाँगें उपर उठाई पर तुंरत उसने योनि को हाथों से ढँक लिया।

“विशाल, नो ! प्लीज़ !”

“क्यों?”

“मुझे शर्म आती है ! तुम अब भी …”

“ओह हो !यह तो तुम्हारा काम था। खैर मैं कर देता हूँ अपनी प्यारी-प्यारी प्रेयसी की खातिर।” मैंने एक झटके से बरमूडा और अंडरवियर उतार फेंके। मेरा लिंग ज्यादा लंबा तो नहीं है, सिर्फ़ छः इंच का, पर उस समय वह भूखे शेर की तरह दहाड़ता हुआ बाहर आ गया।

“मालती, इसे छू कर तो देखो मेरी जान !” मैंने प्यार से कहा,” काटेगा नहीं !”

मालती का लाल भभूका चेहरा, उसकी आँखें भी बंद ! योनि पर उसकी हथेलियाँ और कस कर जम गई। मैंने लिंग के अग्र भाग से उसकी योनि में ढँकी उँगलियों को स्पर्श किया तो मेरे लिंग ने प्री-कम की एक बूंद उगल दी।

अब ?

इस हसीना के साथ जबरदस्ती का मेरा कोई इरादा नहीं था।

मैं फ़िर उसके उरोजों से रस पीने लगा।

“सी, उई आह इस्स्स्स्सी, .” योनि पर उसके उसके हाथ थोड़े ढीले पड़े। मैंने लिंग के अग्र भाग से उसके बाएं निप्पल को स्पर्श किया, वह सिसक पड़ी और उसकी उँगलियों ने मेरे लिंग को धकेला ..

इसी का तो मुझे इन्तजार था, योनि से उसकी हथेलियाँ हटते ही मैंने उसकी जांघों में अपना सर घुसा दिया और उसकी योनि का एक मधुर चुम्बन ले लिया।

“उई ऊऊऊऊउईईईईइ माँ मम्मी, मम्मी !”

और मैं उसकी आर्द्र झिरी में जीभ चलाने लगा। जीभ उपर ले जाकर मैंने उँगलियों से उसकी योनि के ओंठ खोले और जीभ कड़ी करके अन्दर घुसा दी और मथानी की तरह चलने लगा।

“अहा, अहा, उई, सीई, सीईईईईईईई, ”

और मैंने भगनासा खोज लिया और जिह्वा से एक करारा प्रहार किया।

“ऊऊऊऊऊऊऊईईईईईईइ, सीईईईईईईइ”

उसने मेरा सर जांघों से जोर से दबाया, उसकी योनि में मानो मदन-रस की बाढ़ आ गई.. मैं उसका यौवन मधु पीने लगा और वो उत्तेजना के चरमोत्कर्ष पर पहुँच कर निढाल हो गई। जैसे ही उसने आँखें खोली, मैंने फ़िर एक बार भगनासा का जीभ से मर्दन किया।

“ऊऊऊऊईईईई मर गाआआआआआईईईईईइ”

वो फ़िर शिखर पर पहुँची और निढाल हो गई।

इस बार मैंने अपना लिंग उसकी दरार से भिड़ाया। उसने चौंक कर आँखें खोली- नहीं विशाल नहीं ! प्लीज़, वादा?”

हाँ, वादा याद है मेरी रानी !”

मैंने लिंग के अग्र भाग से उसकी भगनासा के साथ घर्षण किया।

“सीईईईईईईए, ऊऊऊऊऊऊईईईईईईईईईईईई,आआया ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् “

वह फ़िर मानो आकाश में ऊँची उड़ी, एक रॉकेट की तरह, फ़िर झड़कर निढाल हो गई। जैसे ही उसकी आँखें खुली, मैंने उसका प्रगाढ़ चुम्बन लिया ।”मेरी रानी, देखा न, यौवन-क्रीड़ा का मधुर आनंद . .अब खुश हो ना?”

“हाँ, मजा तो आया, पर !”

“पर क्या?”मैंने पूछा।

“तुम प्यासे रह गए !”

“मेरी चिंता मत कर पगली”मैंने उसका एक और चुम्बन लिया।

“क्यों नहीं? मैंने कहा था न, कि अगर तुम मेरा वो चूसोगे तो मैं भी तुम्हारा वो चूसूंगी।”

और इससे पहले मैं कुछ कहता, उसने मेरा लिंग पकड़कर जोर से मरोड़ा मैं दर्द से कराहकर बिस्तर मैं पीठ के बल गिरा और वह मेरे उपर छा गई।उसने पहले मेरे निप्पल चूसने शुरू किए।

“आह, मालती, आह, प्लीज़ दांत नहीं आह !”

वह धीरे धीरे नीचे सरकी, नाभि पर अपन जिह्वा धुमाई, फ़िर और नीचे…फ़िर ना जाने उसे क्या सूझा, उसने रेशमी जुल्फों से तन्नाये लिंग को छेड़ा, लिंग उछल पड़ा।

फ़िर उसने शरमाते हुए लिंग थाम लिया और उंगलियाँ उपर नीचे फिराने लगी, लिंग के अग्र भाग को उसने नाखून से कुरेदा।

“आह, अचानक मुझे लगा, लिंग के अग्र भाग में कोई ठंडा अंगूर घिसा जा रहा है। वह अपने स्तनाग्र बारी बारी से घिसने लगी।

उसकी जिव्हा अब मेरे अंडकोष चूम रही थी।

“आह, आह” मैंने उसके लंबे बाल पकड़कर सर आगे धकेला।

“आआआह्ह्ह्ह्ह” मैं उत्तेजना के सागर मैं गोते लगाने लगा। उसने पहले लिंग का अग्र भाग चूसा फ़िर पूरा लिंग मुंह में भर लिया।

“आया ह्ह्ह, ,,,वह जीभ का सञ्चालन कर रही थी। अचानक मेरे शरीर की मसें कड़ी हुई,”आ ह्ह्ह्ह्ह्ह्छ ऊऊऊ आआआ ह्ह्ह्हा ” मैंने उसे पीछे धकेलना चाहा, पर कुछ नहीं, मेरा शेर उसके मुंह के पिंजरे मैं कैद था। मेरे लिंग से वीर्य की धारा फ़ूट पड़ी।

अगले ही क्षण बिस्तर में हम एक दूसरे की बाहों में थे।

इस तरह बिना मैथुन या गुदामैथुन के हमने यौन-क्रीड़ा का भरपूर आनंद उठाया।

तीसरे दिन मालती चली गई। मैंने मालती से कहा कि मैं जल्दी भारत आऊंगा और तुम्हारे मम्मी-पापा से तुम्हारा हाथ मांग लूँगा पर मैं अभी जल्दी भारत जाने के मूड में नहीं हूँ। मैं यहाँ यौवन के नए अनुभव अर्जित करना चाहता हूँ ताकि जब मालती से शादी हो तो उसे यौन-क्रीड़ा का सम्पूर्ण आनन्द दे सकूँ !! हम अभी भी ऑनलाइन भीनी भीनी मीठी रसभरी बारें करते हैं !

कृपया मुझे ईमेल करें।



"sexstory in hindi""hindi sexi story""gay sexy kahani"sexstories"bahu ki chudai""chudai hindi""www.kamukta com""mami ki chudai""sexy aunti""sagi behan ko choda""chudai bhabhi""sexy storey in hindi""www hot sex""chudai hindi""indian story porn""devar bhabhi ki sexy kahani hindi mai""mami ki chudai""sexy story mom""rishto me chudai""bhabhi devar sex story""forced sex story""chodan com""चुदाई की कहानियां""www.hindi sex story""hindi sexy khaniya""phone sex in hindi""deshi kahani""hot girl sex story""indian hindi sex story""chikni choot""bua ki chudai""bhai bhen chudai story""sax stori hindi"mastram.net"sex srories""hot sex stories""hindi sexy khaniya""brother sister sex story""hindi sex story image""hindi ki sexy kahaniya""sex stories hot""hot suhagraat""bhai behn sex story""gay sex hot""sex stories with pics""bhabhi ki nangi chudai""mastram kahani""hotest sex story""desi sex story""sex ki gandi kahani""xossip hindi kahani""antarvasna mastram""chut ki story""xxx stories indian"desisexstories"www hindi sexi story com""चुदाई की कहानियां""saxy story in hindhi""chodai ki kahani hindi""hindi sex story hindi me""anni sex story""hot store hinde""jija sali ki chudai kahani""www sexy hindi kahani com""gand mari kahani""sexy hindi sex story""sexy in hindi""college sex story""hindi sax storis""hot story sex""hindi sex storey""hindi sex storiea""hindi sex store""gay sexy kahani"