मसक कली मौसी-2

(Masak Kali Mausi- Part 2)

View All Stories of this Series


मैं : ना मौसी ना ! मेरी फ़ट जा गी ! तू मन्ने बख्श दे ! मन्नै नी लेणे मज़े !

डण्डे के चूत पर रगड़ने से मुझे मज़ा तो बहुत आ रहा था, मेरे चूतड़ बार बार अपने आप ही उछल उछल कर उसे अपने अन्दर समा लेने का यत्न कर रहे थे, मौसी की चूत मेरे मुंह के पास ही थी, मस्ती में मैं भी मौसी की चूत सहलाने लगी, उसमें उंगलियाँ घुसाने लगी तो मौसी के चूतड़ भी थिरकने लगे।

मौसी : एक दो सै मेरा के बणै ! पूरा पंजा बाड़ दे अन्दर !

सच में मौसी की चूत बहुत खुली थी।

मौसी ने अपने अंगूठे से और एक उंगली से मेरे चूत के फ़लक खोले और तेल में भीगे डण्डे को मेरी योनि में दबाने लगी।

डर के मारे मैंने अपनी जांघें भींच ली !

मौसी मेरे अन्दर डण्डे को ऐसे घुमा घुमा कर डाल रही थी जैसे कि बढ़ई बरमे से लकड़ी में छेद कर रहा हो ! मुझे लगा कि जैसे मेरे बदन में किसी ने चाकू उतार दिया हो ! मुझे असहनीय पीड़ा हुई और जैसे ही मैं चीखने को हुई, मौसी का एक हाथ मेरे मुख पर जम गया जिससे मेरी चीख मेरे गले में ही घुट कर रह गई। मैं समझ चुकी थी कि मेरा योनिपटल भंग हो चुका था और रक्त की एक अविरत धारा मैं अपनी गाण्ड पर से बहती महसूस कर रही थी।

अब तक मौसी धीरे धीरे आधे के अधिक डण्डा मेरी योनि की गहराइयों में उतार चुकी थी। मौसी मुझे होने वाली तकलीफ़ से बेपरवाह अपना काम किए जा रही थी।

डण्डे की मोटाई-लम्बाई को मैं अपने बदन के अन्दर स्पष्ट महसूस कर रही थी, डण्डे ने मेरी योनि को अपने आकार में फ़ैला कर अपना स्थान बना लिया था।

थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि मेरा दर्द कम होने लगा है। शायद थोड़ा बहुत आनन्द का अनुभव भी होने लगा था। मौसी को भी मेरे आनन्द का आभास हो गया था शायद, तभी तो उसने अपना हाथ मेरे मुंह से हटा कर मेरे स्तनों पर रख लिया था।

अब मौसी मेरे स्तनों को बेदर्दी से मसलने लगी। उस लकड़ी के डण्डे को मौसी ने मेरी चूत में ऐसे छोड़ दिया जैसे कोई खूंटा गाड़ कर चला गया हो। मुझे लगने लगा कि आज तो मौसी ने जैसे पूरी दुनिया का दर्द मुझे ही देने की ठान ली हो। मेरी चूचियों को मौसी ऐसे मथ रही थी जैसे आटा गूंथ रही हो। मेरे चुचूकों को पकड़ कर ऐसे खींच रही थी जैसे उनमें से दूध निकालने की कोशिश कर रही हो।

यह कहानी आप mxcc.ru पर पढ़ रहे है ।

कुछ देर बाद फ़िर मौसी का ध्यान डण्डे की तरफ़ गया तो वो उसे धीरे धीरे मेरी योनि में अन्दर-बाहर करने लगी। बीच बीच में लगभग पूरा डण्डा बाहर खींच कर फ़िर पूरा अन्दर घुसा देती तो मैं फ़िर से योनि में दर्द से कराह उठती। मौसी बार बार मुझे आवाज ना करने की हिदायत दे रही थी। जितनी बार मैंने मौसी को अपने दर्द का अहसास दिलाने की कोशिश की उतनी बार मौसी ने यही कहा- बस इबै होवैगो यो दर्द ! फ़ेर तो घणो मज्या यो आवेगो !

तभी अचानक मौसी ने पूरा डण्डा मेरी चूत से बाहर खींच लिया तो मैंने देखा कि डण्डा खून से लाल था। रक्त से सना डण्डा देख कर मैं घबरा गई और अपनी योनि की हालत का जायजा लेने के लिए सिर उठा कर देखने का प्रयत्न करने लगी लेकिन मेरी दृष्टि वहाँ तक पहुँच नहीं पा रही थी।

मौसी ने मेरे वस्ति-स्थल पर झुक कर अपनी एक उंगली और अंगूठे से मेरी योनि को फ़ैलाया और अन्दर झांकते हुए बोली- ले ! इबै तू कुंआरी कौन्ना रई ! फ़टगी तेरी ! पाड़ दी मन्नै तेरी या फ़ुद्दी !

मैं बड़ी मुश्किल से बोली- मौसी एक बार देखने तो दे !

के करैगी तू इब इन्नै देख कै ? चल दिखाई दयूं तन्नै ! देख लै तूं बी के किक्कर मु खोल्ले पडी !

मौसी अपने ट्रंक में से एक छोटा सा शीशा निकाल कर लाई और उसे मेरी योनि के सामने करके इधर उधर हिला कर मुझे मेरी फ़टी हुई योनि दिखाने का प्रयत्न करने लगी।

अपनी चूत की खस्ता हालत देख मुझे रोनी सी आ गई।

मौसी ने फ़िर से मेरी चूत में डण्डा डालने की कोशिश की तो मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और मना करने लगी।

इब के रोक्कै तूं मन्नै ! इब्जां ई ते मज़ा लेण का बखत होया !

कहते हुए मौसी ने मेरी चूत में सरका दिया उस डण्डे को और धीरे धीरे अन्दर-बाहर करने लगी।

मुझे भी मज़ा आने लगा। मैंने मौसी का हाथ पकड़ लिया और अपने आनन्द के अनुसार मौसी के हाथ की गति निर्धारित करने लगी।

मेरा मज़ा बढ़ता ही जा रहा था और एक बार तो ऐसा लगा कि मैं मर ही जाऊँगी इस आनन्द के सागर में डूब कर ! मेरी सांसें थम गई, मेरे चूतड़ अपने आप डण्डे के साथ-साथ उछलने लगे और फ़िर तो ऐसा लगा कि जैसे मैं बादलों में तैर रही हूँ, उड़ रही हूँ ! मेरी आंखें बद थी, मेरे होश खो गए थे, मुझे नहीं पता कि मैं कहाँ हूँ, किस दुनिया में हूँ।

यह था मेरे जीवन का प्रथम यौन चरमोत्कर्ष ! पहला पूर्ण यौन-आनन्द ! आनन्द की पराकाष्ठा !

कहानी का अगला भाग भी शीघ्र भेजूंगी ! प्रतीक्षा करें !



"indian sex stories gay""anamika hot"www.antarvashna.com"saxy hindi story""first chudai story""www sexi story""sexs storys""chudai bhabhi ki""sex story very hot""sex story girl""bhai bahan ki chudai""hindi hot kahani""hot sex kahani hindi""parivar chudai""chudai ka sukh""sali ko choda""chachi hindi sex story""sexy bhabhi ki chudai""desi girl sex story""chudai ki hindi khaniya""माँ की चुदाई""meri chut me land""bhai bhan sax story""hindi ki sexy kahaniya""sexy story marathi""hindi dirty sex stories""सेक्स स्टोरी इन हिंदी""chechi sex"hindisexstories"new hindi sexy store""sex ki gandi kahani""secx story""chut chatna""jija sali""desi indian sex stories""hindi me chudai"chudaikahaniya"sexi khaniya""chodan .com""xossip hot""kamukta ki story""chudai ki kahani new""naukar se chudwaya""chudai stori""gand mari kahani""bhabhi ki chuchi""sex stories written in hindi""hindi chut kahani""hot sex story in hindi""www.kamuk katha.com"mastaram.net"desi kahaniya""bahan ki chudayi""sexi khaniya""indian sex stories hindi""best sex story""bihari chut""real hot story in hindi""hot sex story in hindi""anal sex stories""sali sex""sexy khani""randi chudai ki kahani""jabardasti sex ki kahani""www sexy khani com""adult hindi story""kamukata sex stori"sexstoryinhindi"hindi sax istori""beti sex story"kamukata"hot sex store""bhai behan sex kahani""sexy stories hindi""hindi story sex""sex khaniya""hot doctor sex""indain sex stories""bhaiya ne gand mari""new sex kahani hindi""sexy story latest""hindi sexy stories.com""hot hindi sexy stores""virgin chut""chudai story bhai bahan""इन्सेस्ट स्टोरीज""hot khaniya""gaand marna""jija sali ki sex story""kamwali ki chudai""chudayi ki kahani""new chudai ki story""group sex stories in hindi""chut ki kahani""best story porn""हॉट हिंदी कहानी""maa sexy story""hindi sxe kahani""sex storiez""gay sex hot"